राशिद खान विकेटों के शतक से दो कदम दूर, SRH के खिलाफ पूरा कर सकते हैं सैकड़ा

नई दिल्ली. इंडियन प्रीमियर लीग 2022 में आज 21वां मैच खेला जाएगा. सनराइजर्स हैदराबाद और गुजरात टाइटंस के बीच खेला जाने वाला यह मुकाबला मुंबई के डीवाई पाटिल स्टेडियम में होगा. यह मैच टाइटंस के गेंदबाज राशिद खान के लिए बेहद खास है. वह आईपीएल में 100 विकेट लेने से महज दो कदम दूर हैं.

राशिद खान आईपीएल में ज्यादातर सनराइजर्स हैदराबाद के लिए खेले थे. वह लगातार पांच साल सनराइजर्स का हिस्सा रहे. लेकिन इस साल गुजरात टाइटंस ने उन्हें अपनी टीम में शामिल किया. गुजरात आईपीएल में दूसरी नई टीम है. राशिद खान ने सनराइजर्स के लिए बीते पांच वर्षों में 93 विकेट लिए थे. 15वें सत्र में गुजरात टाइटंस की टीम में शामिल होने के बाद उन्होंने अब तक 5 विकेट लिए हैं. इस तरह यह लेग स्पिनर आईपीएल में कुल 98 विकेट ले चुका है.

यह भी पढ़ें:IPL 2022: ‘गुजरात टाइटंस को कैसे हराएं ये सभी टीमें सोच रही हैं’ जानिए मैथ्यू हेडन ने ऐसा क्यों कहा

IPL 2022: जिन खिलाड़ियों से फ्रेंचाइजी ने तोड़ा सालों पुराना नाता, वो मचा रहे नई टीमों के साथ धमाल

यह रिकॉर्ड बनाने वाले 17वें गेंदबाज होंगे राशिद 

आईपीएल में अब तक 16 गेंदबाज ऐसे हैं जिन्होंने इंडियन प्रीमियर लीग में 100 या उससे अधिक विकेट लिए हैं. लीग में सबसे ज्यादा विकेट लेने वाले गेंदबाजों में ड्वेन ब्रावो 173, लसिथ मलिंगा 170, अमित मिश्रा 166, पीयूष चावला 157, युजवेंद्र चहल 150, हरभजन सिंह 150, सनील नरैन 147, आर अश्विन 146, भुवनेश्वर कुमार 144, जसप्रीत बुमराह 133, उमेश यादव 129, रवींद्र जडेजा 128, संदीप शर्मा 112, आशीष नेहरा 106, आर विनय कुमार 105, जहीर खान 102 और राशिद खान के 98 विकेट शामिल हैं.

IPL में गुजरात टाइटंस का प्रदर्शन

इंडियन प्रीमियर लीग में गुजरात टाइटंस का प्रदर्शन शानदार रहा है. हार्दिक पंड्या की टीम ने अब तक तीन मैच खेले हैं और सभी मुकाबलों में जीत दर्ज की. आज चौथे मुकाबले में टाइटंस की टीम सनराइजर्स हैदराबाद के खिलाफ जीत का चौका लगाने उतरेगी. बीते तीन मैचों में टीम के खिलाड़ी संगठित होकर शानदार प्रदर्शन करने में सफल रहे.

Tags: Gujarat Titans, IPL, IPL 2022, Rashid khan, Sunrisers Hyderabad

Source link

My blog website- https://filmfare91.com/ https://dktechhind.in/ https://dktechhindi.xyz/ Best ad network site- https://propellerads.com/publishers/?ref_id=eGii My youtube channel- https://youtube.com/c/dktechlearn Best electronic devices- https://amzn.to/3592Puc https://amzn.to/3uuerR4 https://www.digistore24.com/redir/321021/dktechhind/ https://www.digistore24.com/redir/325658/dktechhind/ https://www.digistore24.com/redir/365899/dktechhind/ https://www.digistore24.com/redir/382325/dktechhind/ Best crypto trading app- Hey, get FREE BITCOIN worth Rs. 50 on downloading the CoinSwitch Kuber app using my referral link. Join me and 1.4 crore traders who are trading in 100s of crypto. Hurry, use my link: https://coinswitch.co/in/refer?tag=bG9Ps

मुंबई इंडियंस के क्रिकेट निदेशक जहीर खान बोले, बस पहली जीत की बात है, फिर तो…

पुणे. इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) की सबसे सफल फ्रेंचाइजी मुंबई इंडियंस इस सीजन में जूझ रही है और लगातार 4 हार झेलने के बाद टीम के क्रिकेट निदेशक जहीर खान को लगता है कि यह बस पहली जीत दर्ज करने की बात है, जिसके बाद टीम का अभियान पटरी पर वापस आ जाएगा. जहीर हालांकि इस बात से वाकिफ हैं कि लगातार हार से खिलाड़ियों में खुद को लेकर संदेह हो सकता है. भारत के पूर्व पेसर जहीर ने कहा, ‘अभी 11 लीग मैच और होने हैं. हमें वापसी करनी होगी. आपने इस टूर्नामेंट में देखा है कि टीमें लगातार हार या जीत रही हैं, यह सिर्फ पहली जीत दर्ज करने की बात है.’

जहीर ने शनिवार को पुणे के एमसीए स्टेडियम में रॉयल चैलेंजर्स बेंगलोर (आरसीबी) से मिली 7 विकेट की हार के बाद कहा, ‘कभी-कभार आप दबाव भरी परिस्थितियों पर खुद पर संशय करना शुरू कर देते हो. इसलिए हमें इसे भी ध्यान रखना होगा और ग्रुप को प्रेरित बनाए रखना होगा.’ उन्होंने साथ ही कहा कि जो खिलाड़ी अच्छा कर रहे हैं, उन्हें टीम को जीत दिलाने की जरूरत है क्योंकि यह जीत बहुत ही महत्वपूर्ण होगी.

 इसे भी देखें, मिलियन डॉलर का डांस देखने के लिए हो जाइए तैयार? मैच से पहले KKR के 2 खिलाड़ियों ने जमकर लगाए ठुमके

43 वर्षीय पूर्व पेसर ने कहा, ‘हमें लगातार जीत दर्ज करने करने पर ध्यान लगाना होगा, लेकिन हर दिन आपका दिन नहीं हो सकता.’ यह पूछने पर कि टीम इस सत्र में क्यों जूझ रही है तो उन्होंने कहा, ‘आपको मैच के उन क्षण में सतर्क रहना होता है जिसमें मैच का रूख बदल रहा होता है. हम बतौर टीम ऐसा नहीं कर पाये हैं. इसलिये हमें इस पर ध्यान देना होगा. जो चीजें कारगर हो रही है, उन सकारात्मक चीजों पर ध्यान देना होगा और इनसे ही आगे बढ़ना होगा. यह लंबा सत्र है इसलिए हमें बेहतर से बेहतर होना होगा.’

Tags: Cricket news, IPL 2022, Mumbai indians, Zaheer Khan

Source link

Flu Outbreaks In Winter: What Can One Do To Prevent It Fea Ture | हिवाळ्यात फ्लूचा उद्रेक होतो; तो टाळण्यासाठी काय करावे?


हिवाळ्यात साधारणतः सामान्य सर्दी आणि फ्लू सारख्या संसर्गजन्य परिस्थितींच्या प्रकरणांमध्ये वाढ झाल्याचे दिसते. फ्लूचा प्रादुर्भाव वर्षभर दिसून येतो, त्यात फ्लूचे विषाणू हिवाळ्यात सर्वाधिक आढळतात!

इन्फ्लूएन्झा किंवा “फ्लू” हे आपल्याला सामान्यपणे संसर्गजन्य विषाणू म्हणून माहित आहे. हे प्रामुख्याने इन्फ्लूएन्झा विषाणू A किंवा B मुळे होतो. सामान्य सर्दी पेक्षा वेगळी कधीही होणारी सर्दी, फ्लूचा प्रादुर्भाव सामान्यपणे शरद ऋतू आणि हिवाळ्यात दिसून येतो. इन्फ्लूएन्झा विषाणू थंड आणि कोरड्या हवामानात अधिक बळावतो, हे या मागचे कारण असू शकते.

इंडियन कौन्सिल ऑफ मेडिकल रिसर्च (ICMR)ने भारतात केलेल्या रिसर्चद्वारे या वस्तूस्थितीचे समर्थन केले आहे. यांच्या अभ्यासानुसार संपूर्ण भारतात इन्फ्लूएन्झाच्या प्रभावाचा हंगाम वेगवेगळ्या ठिकाणी व वेगळवेगळा आहे. साधारणतः इन्फ्लूएन्झा विषाणू हिवाळ्यातील जानेवारी-मार्च दरम्यान देशाच्या उत्तरेकडील भागात आणि पावसाळ्याच्या काळात ऑगस्ट-ऑक्टोबर दरम्यान देशाच्या उर्वरित भागात अधिक सक्रिय असतो.3 खरं तर, तापमान, पर्जन्यमान, आर्द्रता, अक्षांश, थंड आणि कोरडे हवामान हे घटक भारतात हंगामी फ्लू सक्रिय करण्याच्या प्रवृत्तीमध्ये मोठी भूमिका बजावतात. यामुळेच संपूर्ण भारतात इन्फ्लूएन्झाचा प्रभावी हंगाम वेगवेगळे आहेत. याचा परिणाम इन्फ्लूएन्झा लसीच्या वेळेवर घेणे आणि लस तयार करण्यावर देखील होतो.4

भारतात काय परिस्थिती आहे?

जुलै २०२१ पासून भारतातील इन्फ्लूएन्झा प्रकरणांमध्ये हळूहळू वाढ होत आहे. त्यामुळे सार्वजनिक आरोग्य एजन्सी फ्लू प्रतिबंधीत बुस्टर शॉट घेण्यास अधिक महत्त्वाचे असल्याचे सांगतात.5,7

आपण प्रत्येक हंगामात फ्लू प्रतिबंधीत शॉट का घ्यावा?

1 (1)

आपल्यासारख्या उष्णकटिबंधीय देशांमध्ये इन्फ्लूएन्झा विषाणूचा प्रभाव वर्षभरात वेगवेगळ्या ठिकाणी दिसून येतो.8 या विषाणूचे वैशिष्ट्य म्हणजे ते सतत परिवर्तीत होत असतात. मूलत: विषाणूत सतत बदल करत विविध प्रकार धारण करतात.1 आणि इन्फ्लूएन्झा विषाणूत होणारी जलद उत्क्रांतीतील विषाणू व्हायरस A (H3N2) उपप्रकार असल्याचे दिसून आले आहे.9 इन्फ्लूएन्झा विषाणूंमधील अलीकडील बदलांना संबोधित करण्यासाठी इन्फ्लूएन्झा लस तयार करण्याची रचना करणे आवश्यक आहे. भारतात, टाइप A आणि टाइप B इन्फ्लूएन्झा विषाणूंची उपस्थिती आहे आणि हिवाळ्याच्या हंगामात A प्रकारातील एका स्ट्रेनमध्ये बदल होतो.

विषाणूचे परिवर्तन होत असताना, शरीरात पूर्वी विकसित झालेल्या अँटीबॉडीजना परिवर्तीत झालेल्या विषाणूला ओळखता येत नाही. त्यामुळे रोगप्रतिकारशक्ती कमी होऊन एखाद्या व्यक्तीला इन्फ्लूएन्झाचा संसर्ग होण्याची शक्यता असते.8

याचा अर्थ असा की जरी तुम्ही मागील वर्षात फ्लूचा शॉट घेतला असला, तरी यावर्षात देखील प्रतिकारशक्ती वाढवण्यासाठी पुन्हा शॉट घेण्याची आवश्यकता असू शकते.

सर्वाधिक धोका कोणाला आहे ?

2 (2)

सध्याच्या काळात इन्फ्लूएन्झावर नियंत्रण मिळवण्यासाठी जोखीम गटांच्या प्राधान्यक्रमावर पुनर्विचार करण्याची गरज आहे. वर्ल्ड हेल्थ ऑर्गनायझेशन (WHO) नुसार आरोग्य सेवा कर्मचार्‍यांना आणि वृद्ध प्रौढांना इन्फ्लूएन्झा लसीसाठी सर्वप्रथम प्राधान्य दिले पाहिजे आणि त्यानंतर सामान्य आरोग्य स्थिती असलेल्या व्यक्ती, गर्भवती महिला आणि मुलांना प्राधान्य दिले पाहिजे.5

सतत नाक वाहणे किंवा कान बंद होणे यासारख्या लक्षणांकडे दुर्लक्ष करू नका. अशी लक्षणे दिसल्यास कौटुंबिक डॉक्टरांशी चर्चा करा आणि इन्फ्लूएन्झा लसीकरणासाठी योग्य वेळ माहित करून घ्या. तसंच थर्ड जनरेशन इन्फ्लूएन्झा लस आणि नवीनतम NH स्ट्रेन लसींबद्दलही माहिती करून घ्या.6 इन्फ्लूएन्झा A (H3N2) विषाणूंच्या प्रसारामधील अलीकडील बदलांबाबत आपल्या डॉक्टरांचा सल्ला घ्या. त्यामुळे या 2021-2022 वर्षात इन्फ्लूएन्झा लसीच्या हंगामात घ्यावयाच्या नवीन इन्फ्लूएन्झा स्ट्रेनच्या लसीबाबत समजून घेण्यास मदत होईल.8

1 7Picture adapted from: FluNet. Influenza Laboratory Surveillance Information. World Health Organization. Available at: https://apps.who.int/flumart/Default?ReportNo=1 Accessed on 11.10.2021

डॉ. उपेंद्र किंजवडेकर यांच्याबाबत माहीती.

डॉ. उपेंद्र किंजवडेकर १९९१ पासून कमलेश मदर अँड चाइल्ड हॉस्पिटलमध्ये कंसल्टिंग लीड बालरोगतज्ञ म्हणून काम पाहिले आहे. तर २०१६ पासून नवी मुंबईतील अपोलो हॉस्पिटमध्ये बालरोगतज्ञ सल्लागार म्हणून काम केले आहे. सध्या ते इंडियन ऍकॅडमी ऑफ पेडियाट्रिक्स २०२२ चे निर्वाचित अध्यक्ष आहेत. ‘डॉक्टर एक विचारू?’ त्यांच्या या पुस्तकाला २०१४ मध्ये महाराष्ट्र साहित्य अकादमीने आरोग्य श्रेणीतील सर्वोत्कृष्ट पुस्तक म्हणून सन्मानित केले होते.

photo for message (1)

The information provided in this article is meant for the awareness only and this article should not be considered as a substitute for doctor’s advice. The views and opinions expressed by the doctors are their independent prof essional judgment and Abbott India Limited (“Abbott India”) does not take any responsibility for the accuracy of their views. Please consult your doctor for more details. Abbott India shall not be liable in any manner whatsoever for any action based on the information provided in this article and does not hold itself liable for any consequences, legal or otherwise, arising out of information in this article. This article has been produced on behalf of Abbott India’s Influenza awareness initiative, by Times Internet’s Spotlight team.

References:

  1. Influenza: are we ready? World Health Organization. Available at: https://www.who.int/news-room/spotlight/influenza-are-we-ready Accessed on 30.9.2021
  2. Moghadami, Mohsen. “A narrative review of influenza: a seasonal and pandemic disease.” Iranian journal of medical sciences 42.1 (2017): 2. https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC5337761/
  3. Influenza Division International Activities. Centers for Disease Control and Prevention. https://www.cdc.gov/flu/pdf/international/program/2011-12/india.pdf
  4. Koul, Parvaiz A., et al. “Differences in influenza seasonality by latitude, northern India.” Emerging infectious diseases 20.10 (2014): 1723. https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC4193176/
  5. WHO SAGE Seasonal Influenza Vaccination Recommendations during the COVID-19 Pandemic. World Health Organization. Available at: https://www.who.int/immunization/policy/position_papers/Interim_SAGE_influenza_vaccination_recommendations.pdf Accessed on 30.9.2021
  6. Muruganathan, A., et al. Recommendations for vaccination against seasonal influenza in adult high risk groups: South Asian recommendations. Association of Physicians of India, 2016. https://japi.org/u2c48474/recommendations-for-vaccination-against-seasonal-influenza-in-adult-high-risk-groups-south-asian-recommendations
  7. FluNet. World Health Organization. Available at: https://www.who.int/tools/flunet Accessed on 01.10.2021
  8. Recommended composition of influenza virus vaccines for use in the 2021-2022 northern hemisphere influenza season. World Health Organization. Available at: https://www.who.int/publications/i/item/recommended-composition-of-influenza-virus-vaccines-for-use-in-the-2021-2022-northern-hemisphere-influenza-season Accessed on 30.9.2021
  9. Allen, James D., and Ted M. Ross. “Evaluation of next-generation H3 influenza vaccines in ferrets pre-immune to historical H3N2 viruses.” Frontiers in Immunology 12 (2021). https://www.frontiersin.org/articles/10.3389/fimmu.2021.707339/full
  10. What are the benefits of flu vaccination? Centres for Disease Control and Prevention. Available at: https://www.cdc.gov/flu/prevent/vaccine-benefits.htm Accessed on 30.9.2021



Source link

BSEB Bihar DElEd 2022: Registration started for Bihar DElEd course, fill up such forms, know the last details

BSEB Bihar DElEd 2022: Registration started for Bihar DElEd course,

Bihar deied

BSEB Bihar DElEd 2022: Bihar School Examination Board (BSEB) has started registration for Bihar D.El.Ed (Diploma in Elementary Education) 2022 from March 28, 2022. Interested and eligible candidates can register for Bihar DElEd 2022 online through the official BSEB website – secondary.biharboardonline.com.

The date of registration of enroll students in the training session 2021-23 of DElEd (Face-to-Face) course has been announced. Registration of Enroll students of Session 2021-23 in their institute will be done online from March 28, 2022 to April 8, 2022 on behalf of the Principal of DElEd Training Institute. How much is the registration fee? Prior to the online registration of the Training Institute, the registration form will be made available on the committee’s website – http://secondary.biharboardonline.com/ from March 26, 2022 so that it can be downloaded and made available to the candidates.

After receiving the registration form filled by them, they will match it with the records of the institute and only after that they will fill the online form of the concerned students and deposit the fees. A fee of Rs. 400 / – has been fixed for registration.

IAS Tina Dabi is going to have a second marriage, find out who her companions are based on the registration form filled online. On behalf of the committee, a dummy registration card will be issued on April 11, 2022 on the website. Any mistake in dummy registration card can be corrected on the website from April 11, 2022 to April 13, 2022. In case of any inconvenience in filling up the online registration form and submission of fees, the helpline number can be contacted on 0612-2232074, 2232257, 2232239. How to Register in BSEB Bihar DElEd 2022 Course: STEP 1: Visit the official website of BSEB – secondary.biharboardonline.com STEP 2: Click on the ‘Registraion’ link on the homepage. A new page will open on your screen. STEP 3: Click on the link of ‘view / download registration form’ under ‘Diploma in Elementary Education (Face to Face)’ section. STEP 4: Take a print-out of the form. STEP 5: Fill in all the necessary details carefully and also put a picture of the candidate on it. STEP 6: Submit it along with the application / registration fee to the concerned school / center.

Skin care tips: त्वचा की देखभाल: गर्मियों में चेहरे पर काले धब्बे कैसे हटाएं?

icecube

इन दो हरी पत्तियों से बर्फ के टुकड़े बना लें
गर्मी में लाली, मुंहासे और काले धब्बे आम हैं। इन सभी समस्याओं से बचने के लिए लोग अक्सर बाजार में कई महंगे खाद्य पदार्थों का इस्तेमाल करते हैं। लेकिन यह अभी भी काम नहीं करता है। ऐसे में आज हम आपको एक ऐसा उपाय बताने जा रहे हैं जिससे आप गर्मियों में त्वचा की सभी समस्याओं से बच सकते हैं।

भारत में गर्मियों की शुरुआत के साथ, चेहरे की त्वचा की देखभाल बहुत जरूरी है। गर्मियों में पसीना आने से त्वचा में बहुत जलन होती है। इससे त्वचा पर दाग-धब्बे और पिंपल्स भी हो जाते हैं। साथ ही संवेदनशील त्वचा वालों को गर्मियों में कई समस्याओं का सामना करना पड़ता है। गर्मी में लाली, मुंहासे और काले धब्बे आम हैं। इन सभी समस्याओं से बचने के लिए लोग अक्सर बाजार में कई महंगे खाद्य पदार्थों का इस्तेमाल करते हैं। लेकिन यह अभी भी काम नहीं करता है। ऐसे में आज हम आपको एक ऐसा उपाय बताने जा रहे हैं जिससे आप गर्मियों में त्वचा की सभी समस्याओं से बच सकते हैं।

तुलसी और पुदीना से आइस क्यूब बनाएं

Pudina

गर्मियों में त्वचा पर बर्फ के टुकड़े लगाना सबसे अच्छा होता है। ऐसे में आप आलू के आइस क्यूब को त्वचा पर लगा सकते हैं। साथ ही पुदीना और तुलसी के बर्फ के टुकड़े भी बहुत फायदेमंद होते हैं। अगर आपकी त्वचा तैलीय है तो आलू के बर्फ के टुकड़े को त्वचा पर न लगाएं।

आइसक्यूब (icecube)के लिए सामग्री
तुलसी की पत्तियां
पुदीने की पत्तियां
गुलाब जल
पानी

आइस क्यूब कैसे बनाते हैं?


एक कप पानी लें और उसमें 6-7 तुलसी और 6-7 पुदीने के पत्ते भिगो दें। कुछ देर बाद इसे अच्छे से धोकर पीस लें। आप इनका पेस्ट भी बना सकते हैं। अब 1 कप पानी में कुचले हुए पत्तों को डाल कर उबाल लें। कम से कम 1 मिनट तक उबालें, फिर ठंडा होने दें। ठंडा होने पर गुलाब जल डालें। और इन्हें आइस ट्रे में डालकर जमने के लिए रख दें।

आइसक्यूब का उपयोग कैसे करें

इसके लिए रोजाना एक आइस क्यूब निकालकर चेहरे पर सर्कुलर मोशन में मलें। अगर आपकी त्वचा संवेदनशील है और आप आइस क्यूब को सीधे चेहरे पर नहीं लगा सकते हैं, तो आप इसे रुई के रुमाल में लपेट सकते हैं।

छाल से लेकर बीज तक जानें, तरबूज के फायदे

छाल से लेकर बीज तक जानें तरबूज के फायदे

कहा जाता है कि असली गर्मी होली के बाद शुरू होती है। कलिंगद गर्मियों में सबसे ज्यादा खाए जाने वाले फलों में से एक है। यह फल हम सभी के लिए वरदान है। भीषण गर्मी के दिनों में तेज गर्मी के कारण शरीर अपनी चमक खो देता है उस समय तरबूज के सेवन से शरीर को ठंडक मिलती है और अत्यधिक पसीने के कारण होने वाली थकान से राहत मिलती है। मीठा, ठंडा, प्यास बुझाने वाला और स्फूर्तिदायक तरबूज को शास्त्रीय रूप से ‘क्रिटेलस वल्गरिस’ कहा जाता है। मूल रूप से अफ्रीका से, यह फल कर्नाटक, भारत में व्यापक रूप से उगाया जाता है। हमारे पास इसकी कई किस्में हैं। आइए जानते हैं तरबूज के औषधीय गुणों के बारे में।

Watermelon

  1. गुर्दे की पथरी होने पर कुछ दिनों तक लगातार तरबूज का रस पिलाने से पेशाब की जलन दूर हो जाती है। अगर आप एसिडोसिस से पीड़ित हैं तो पित्त को कम करने के लिए तरबूज का सेवन करें।
  2. यदि आप धूप से निकलने के बाद सिर दर्द से पीड़ित हैं या गर्मी विकार के कारण आपको आधा तरबूज की टोपी पहननी चाहिए। सिर दर्द बंद हो जाता है और शरीर में ठंडक बढ़ जाती है।
  1. तरबूज टमाटर की तरह लाइकोपीन से भरपूर होता है। चूंकि लाइकोपीन एक एंटीऑक्सीडेंट है, यह कैंसर से लड़ने में उपयोगी है।
  2. तरबूज खाने से कब्ज के लक्षण कम होते हैं और इसमें नमी होने से पेट साफ होता है।
  3. कलिंगद सौंदर्यशास्त्र के लिए भी उपयोगी है। तरबूज के छिलके को चेहरे पर मलने से चेहरे की ताजगी बढ़ती है।
  1. खरबूजे के बीज बहुत ही पौष्टिक और स्वादिष्ट होते हैं। सौंफ में माउथवॉश के साथ-साथ घर में बने लड्डू, बर्फी में भी तरबूज के बीजों का प्रयोग करना चाहिए। इससे बना तेल पौष्टिक होता है। इसे भोजन के रूप में भी इस्तेमाल किया जा सकता है।
  2. तरबूज के बीजों को छीलना मुश्किल होता है क्योंकि ये सख्त होते हैं। तो थोड़ा सा पानी डालकर मिक्सी में पीस लें और छलनी से जूस को छान लें। ये बीज प्रोटीन, नमक और वसा से भरपूर होते हैं जो शरीर के लिए अच्छे होते हैं और अच्छे स्वास्थ्य के लिए उपयोग किए जाते हैं।
  3. तरबूज की लाल माला निकालकर साल के सफेद गार को फेंके बिना सलाद, थाली, कटलेट, भाजी, धीरडे, भाजी में प्रयोग करना चाहिए।
  1. तरबूज के हरे छिलके को धोकर बारीक काटकर बालू बनाने में इस्तेमाल करना चाहिए यह आयरन, छोटा और विटामिन बी से भरपूर होता है।
  2. तरबूज में पानी और पोटैशियम की मात्रा सबसे ज्यादा होती है। इसलिए मूत्र मार्ग में संक्रमण, मूत्र असंयम और मूत्र मार्ग में संक्रमण होने पर तरबूज का सेवन करना फायदेमंद होता है।
  1. कलिंगद में लाइकोपीन होता है। लाइकोपीन आपकी त्वचा को जवान रखता है।
  2. अपच, भूख न लगना और खून की कमी होने पर कलिंगद बहुत फायदेमंद होता है।
  1. तरबूज के गूदे को ब्लैकहेड्स से प्रभावित जगह पर मलें और एक मिनट बाद अपने चेहरे को गुनगुने पानी से धो लें।

क्या सावधानियाँ बरतनी चाहिए?

कलिंगद को पकने के बाद सिर के नीचे रखना चाहिए। इसके ऊपर पानी में भिगोया हुआ एक ठंडा कपड़ा डालें। फिर चार से पांच घंटे बाद तरबूज खा लें। रेफ्रिजेरेटेड तरबूज नहीं खाना चाहिए। साथ ही एक बार कटे हुए तरबूज को फ्रिज में रखकर अगले दिन नहीं खाना चाहिए। ऐसा इसलिए क्योंकि फल को काटने के बाद उसके पोषक तत्व खत्म हो जाते हैं, इसलिए उसे तुरंत खाना चाहिए। कई लोग तरबूज को नमक के साथ खाते हैं; हालांकि, तरबूज में सोडियम क्लोराइड और पोटेशियम जैसे लवण होते हैं क्योंकि यह मादक है और नमक डालने से लवणता भी बढ़ जाती है, इसलिए नमक और चीनी का उपयोग नहीं किया जाता है। इसलिए पके तरबूज को मादक अवस्था में काटकर तुरंत खा लें। तरबूज को फ्रिज में काट कर खाने से अक्सर फूड पॉइजनिंग और डायरिया, उल्टी, बुखार, ठंड लगना और खांसी हो जाती है।

ipl 2022 auction: नीलामी कैसे काम करती है? इसके नियम क्या हैं? एक क्लिक में जानें

आईपीएल 2022: नीलामी कैसे काम करती है? इसके नियम क्या हैं? एक क्लिक में जानें

आईपीएल 2022 में, 10 टीमों के बीच कुल 74 मैच होंगे, जिसमें प्रत्येक टीम 7 मैच घर पर और 7 मैच प्रतिद्वंद्वी टीमों के खिलाफ खेलेगी। आईपीएल 2011 सीज़न के दौरान कुल 74 मैच खेले गए और सभी टीमों ने 14-14 लीग मैच खेले।

इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल 2022) का 15वां सीजन काफी रोमांचक होने वाला है। क्योंकि इस बार आठ की जगह 10 टीमें हिस्सा लेंगी। आईपीएल शुरू होने से पहले 12 और 13 फरवरी को मेगा नीलामी होगी। क्रिकेट फैंस के साथ-साथ सभी फ्रेंचाइजी टीमों को भी आईपीएल नीलामी का बेसब्री से इंतजार है। आइए आईपीएल 2022 और इसकी नीलामी पर एक संक्षिप्त नज़र डालें।

मार्च में शुरू होगा आईपीएल


आईपीएल के मार्च 2022 के अंतिम सप्ताह में शुरू होने की संभावना है और मई के अंत तक चलने की संभावना है। फैंस के साथ-साथ टीम मालिकों ने भी भारत में होने वाले इस टूर्नामेंट को लेकर इच्छा जताई है. कोरोना को जहां अचानक फैसला बदलना पड़ा, वहीं बीसीसीआई ने भी प्लान-बी के तौर पर दक्षिण अफ्रीका, यूएई या श्रीलंका में आईपीएल की मेजबानी करने की अपनी तत्परता के संकेत दिए हैं। आईपीएल नीलामी से पहले, बोर्ड के आईपीएल के स्थान पर अंतिम निर्णय लेने की उम्मीद है।

मेगा नीलामी से पहले कुल 33 खिलाड़ियों का चयन किया गया है। आठ पुरानी आईपीएल फ्रेंचाइजी ने कुल 27 खिलाड़ियों को रिटेन किया है, जबकि आईपीएल की दो नई टीमों ने नीलामी से पहले तीन-तीन खिलाड़ियों का चयन किया है। गौरतलब है कि इन 10 फ्रेंचाइजी टीमों ने 33 खिलाड़ियों को रिटेन करने के लिए करीब 338 करोड़ रुपये खर्च किए हैं।

मेगा नीलामी से पहले कुल 33 खिलाड़ियों का चयन किया गया है। आठ पुरानी आईपीएल फ्रेंचाइजी ने कुल 27 खिलाड़ियों को रिटेन किया है, जबकि आईपीएल की दो नई टीमों ने नीलामी से पहले तीन-तीन खिलाड़ियों का चयन किया है। गौरतलब है कि इन 10 फ्रेंचाइजी टीमों ने 33 खिलाड़ियों को रिटेन करने के लिए करीब 338 करोड़ रुपये खर्च किए हैं।

क्या कोई फ्रेंचाइजी बिना बिके खिलाड़ियों को खरीद सकती है?
हां, यदि कोई खिलाड़ी चोट या किसी अन्य कारण से अनुपलब्ध है, तो फ्रेंचाइजी बिना बिके खिलाड़ियों की सूची में से एक खिलाड़ी का चयन करके स्लॉट भर सकती है, लेकिन वे अपनी टीम में अधिकतम विदेशी खिलाड़ियों के बेंचमार्क को पूरा कर सकते हैं।

IPL में खिलाड़ियों का ट्रांसफर कैसे होता है?/How are players transferred in IPL?


एक नियम के रूप में, कोई भी खिलाड़ी जो अपनी मूल टीम के लिए दो से कम मैचों के लिए प्लेइंग इलेवन का हिस्सा है या टीम के विकल्प के रूप में खेला है, उसे आपसी सहमति से दूसरी टीम को उधार दिया जा सकता है। खिलाड़ी को उधार देने वाली फ्रेंचाइजी को बिना वेतन सीमा के सहमति शुल्क प्राप्त होगा।

स्थानांतरित खिलाड़ी उधार ली गई टीम के लिए खेलेंगे, लेकिन अगले सत्र में मूल टीम में लौट आएंगे। ट्रांसफर विंडो प्रतियोगिता के बीच में ही खुलती है। 2022 सीज़न के लिए, यह विंडो तब खुलेगी जब सभी 10 टीमें प्रत्येक में 9 मैच खेलेंगी।

आरटीएम (राइट टू मैच) क्या है?


आरटीएम फ्रैंचाइजी को एक ऐसे खिलाड़ी को वापस खरीदने का विकल्प देता है जिसे वे बनाए रखने में सक्षम नहीं हैं, लेकिन उन्हें अपनी टीम में वापस लाना चाहते हैं। नीलामी में किसी खिलाड़ी के लिए उच्चतम बोली राशि का निर्धारण करने के बाद, टीम को उस टीम के साथ उच्चतम बोली का मिलान करने का विकल्प दिया जाता है जिसके लिए खिलाड़ी ने पिछले सीजन में भाग लिया था। यदि RTM कार्ड का उपयोग किया जाता है, तो खिलाड़ी टीम में शामिल हो सकता है

यदि नहीं, तो उच्चतम बोली लगाने वाले को खिलाड़ी को खरीदने का अधिकार है। 2022 की नीलामी में आरटीएम कार्ड का विकल्प नहीं होगा, क्योंकि पहली बार आईपीएल में शामिल होने वाली दो नई टीमों के लिए यह अनुचित होगा।

बोली युद्ध क्या है?


बिडिंग वॉर एक प्रतिस्पर्धी बोली प्रक्रिया है, जहां दो या दो से अधिक फ्रेंचाइजी एक ही खिलाड़ी को खरीदना चाहती हैं। कभी-कभी चार टीमें बोली-प्रक्रिया युद्ध में शामिल हो जाती हैं। बोली बढ़ने पर एक या दो फ्रेंचाइजी बोली लगाना बंद कर सकती हैं। और दोनों फ्रेंचाइजी बोली लगाना जारी रख सकती हैं। कभी-कभी ऐसा इसलिए होता है क्योंकि एक खिलाड़ी कई टीमों के पसंदीदा की सूची में होता है और वे सभी उस खिलाड़ी को खरीदना चाहते हैं।

वे किसी भी कीमत पर नीलामी में खरीदने की योजना बना रहे हैं। उन्हें इस बात का भी अच्छा अंदाजा है कि किन टीमों की दिलचस्पी किन खिलाड़ियों में हो सकती है। मेगा नीलामी में ऐसा होने की संभावना नहीं है, क्योंकि सभी फ्रेंचाइजी को नीलामी में अपनी टीम का 90 प्रतिशत तक निर्माण करना होता है।

एक फ्रेंचाइजी स्टार खिलाड़ियों पर कितना खर्च करती है?


अधिकांश फ्रेंचाइजी अपनी मुख्य टीम बनाने के लिए अपने वॉलेट का लगभग 40 प्रतिशत खर्च करती हैं। इसमें आमतौर पर 5-6 खिलाड़ी होते हैं। शेष पर्स का उपयोग तब 20 विषम खिलाड़ियों को खरीदने के लिए किया जाता है। यदि 25 की एक टीम बनती है, तो विषम खिलाड़ी उन खिलाड़ियों की सूची होती है जिनका आधार मूल्य कम होता है। इनमें से ज्यादातर खिलाड़ी अनकैप्ड खिलाड़ी हैं।

आईपीएल के इतिहास में अब तक की सबसे ज्यादा कीमत 17 करोड़ रुपये है। पिछली मेगा नीलामी से पहले रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर ने विराट कोहली को 17 करोड़ रुपये में रिटेन किया था। 2022 सीजन से पहले विराट की सैलरी में 2 करोड़ रुपए की कटौती की गई थी। क्योंकि आरसीबी ने इसे 15 करोड़ रुपये रखा था। लखनऊ फ्रेंचाइजी ने केएल राहुल को 17 करोड़ रुपये में साइन किया है।

मेगा नीलामी के लिए मैदान में 590 खिलाड़ी


बीसीसीआई की ओर से जारी लिस्ट के मुताबिक इस बार 590 खिलाड़ियों की नीलामी की जाएगी. जिन 590 क्रिकेटरों के लिए बोली लगाई जानी है, उनमें से 228 की सीमा तय है और 355 अनकैप्ड हैं। इसके अलावा 7 खिलाड़ी सहयोगी देशों से हैं। इस नीलामी में 370 भारतीय खिलाड़ी भाग ले रहे हैं, जबकि विदेशों में

खिलाड़ियों की कुल संख्या 220 है। ऑस्ट्रेलिया के 47 खिलाड़ियों में सबसे ज्यादा विदेशी खिलाड़ी हैं। इसके बाद वेस्टइंडीज (34) और दक्षिण अफ्रीका (33) का नंबर आता है।

इस लिस्ट में 48 खिलाड़ी ऐसे हैं, जिनकी असली कीमत 2 करोड़ रुपये है। 20 खिलाड़ियों का बेस प्राइस 1.5 करोड़ रुपये है। साथ ही 34 खिलाड़ियों का बेस प्राइस 1 करोड़ रुपये है। मूल कीमत यह है कि शुरुआती दौर में ये खिलाड़ी इस तय रकम के लिए बोली लगाना शुरू कर देंगे।

दाल भात या दाल चपाती: दाल-चावल या सब्जी-चपाती? डाइटिशियन से जानें तुरंत वजन घटाने के लिए सबसे अच्छा कॉम्बिनेशन क्या है?

दाल भात या दाल चपाती: दाल-चावल या सब्जी-चपाती? डाइटिशियन से जानें तुरंत वजन घटाने के लिए सबसे अच्छा कॉम्बिनेशन क्या है?

Dal chapati

मोटापा एक गंभीर समस्या है और आजकल ज्यादातर लोग वजन बढ़ने की समस्या से जूझ रहे हैं। बेशक, वजन कम करना कोई आसान काम नहीं है, लेकिन इसे व्यायाम और स्वस्थ आहार से किया जा सकता है। जब वजन घटाने वाले आहार की बात आती है, तो बाजार में खाने के कई विकल्प उपलब्ध होते हैं, ऐसे में भ्रम होता है कि क्या खाया जाए। विशेषज्ञों का मानना ​​है कि वजन घटाने के लिए प्रोटीन युक्त खाद्य पदार्थों का सेवन वजन कम करने के लिए करना चाहिए।

चिकन और अंडे को प्रोटीन का मजबूत स्रोत माना जाता है लेकिन इन्हें रोजाना नहीं खाया जा सकता है। हालांकि दाल को हम रोज जरूर खा सकते हैं। दालें कई प्रकार की होती हैं जैसे हरी दाल, अरहर की दाल, चना दाल, उड़द की दाल जो प्रोटीन के अच्छे स्रोत हैं। लेकिन फिर भी सवाल उठता है कि दाल चावल अच्छे हैं या दाल चपाती? वज़न घटाने का सबसे अच्छा तरीका क्या है? इस सवाल का जवाब न्यूट्रिशनिस्ट और डायटीशियन शिखा अग्रवाल शर्मा दे रही हैं।

वजन घटाने के लिए दाल प्रोटीन का सबसे अच्छा स्रोत

दालें प्रोटीन का भण्डार हैं। 1 कप दाल शरीर को करीब 7 ग्राम प्रोटीन की आपूर्ति करती है। चावल में बी कॉम्प्लेक्स विटामिन होते हैं और यह कार्बोहाइड्रेट का एक स्रोत है। जब आप कोई भी भोजन, एक अनाज और एक दाल मिलाते हैं, तो भोजन की प्रोटीन गुणवत्ता में सुधार होता है। चपाती और दाल का भी यही हाल है। इसलिए सिर्फ गेहूं की चपाती की जगह ज्वार, बाजरा, नाचनी, सोयाबीन, हरी दाल जैसी रोटी बनाएं। अगर आप 1 कप दाल के साथ मल्टीग्रेन चपाती खाते हैं, तो आपको फाइबर, प्रोटीन, बी कॉम्प्लेक्स विटामिन मिलते हैं, जो वजन घटाने में मदद करते हैं।

चपाती(chapati)


चपाती कार्बोहाइड्रेट का एक बड़ा स्रोत है, जो आपको भरपूर ऊर्जा दे सकती है और आपको परिपूर्ण रख सकती है। एक चपाती आपके शरीर को विटामिन बी, ई, कॉपर, जिंक, आयोडीन, मैंगनीज, सिलिकॉन जैसे विभिन्न विटामिन और खनिज प्रदान करती है। आप आटे में पकी हुई सब्जियाँ जैसे बीन्स, गाजर, पालक भी मिला सकते हैं ताकि आटे का पोषण मूल्य बढ़ाया जा सके।

तुपची चपाती(oily chapati)

चपाती बनाने के लिए गेहूं के आटे का प्रयोग करें और इसे चपाती के घी के साथ खाएं. आटे में नचनी का आटा, सोयाबीन का आटा, चना का आटा, बाजरा और बुलगर गेहूं जैसे अन्य आटे को मिलाना भी एक अच्छा विचार है।

चावल(rice)

चावल में चपाती के मुकाबले फाइबर, प्रोटीन और फैट कम होता है। चावल पचने में आसान होता है क्योंकि इसमें स्टार्च होता है और इसमें फोलेट की मात्रा भी अधिक होती है। लेकिन वजन घटाने के लिए चपाती एक बेहतरीन विकल्प है। यदि आप चावल के बिना नहीं रह सकते हैं, तो आप दाल की खिचड़ी को अधिक दालों के साथ खा सकते हैं ताकि यह पेट में पौष्टिक तरीके से चली जाए।

तो वजन घटाने(weight loss) के लिए क्या सही है?

दालें प्रोटीन और फाइबर के अलावा मैग्नीशियम और फोलेट से भरपूर होती हैं, जो हृदय स्वास्थ्य के लिए भी अच्छे होते हैं। दालों में चावल और चपाती की तुलना में अधिक प्रोटीन और अमीनो एसिड होते हैं। लेकिन अगर आप अधिक फाइबर के स्रोत की तलाश में हैं, तो दाल-चपाती एक अच्छा भोजन संयोजन है। चाहे आपका लक्ष्य वजन कम करना हो या समग्र स्वास्थ्य में सुधार करना हो, अपने आहार में विभिन्न प्रकार के अनाज शामिल करने से आपके पेट के स्वास्थ्य में सुधार हो सकता है।

budhaape mein svasth rahane ke lie 30 ke umr ke baad in cheejon ko apane dait mein jaroor shaamil karen

बुढ़ापे में स्वस्थ रहने के लिए 30 के उम्र के बाद इन चीजों को अपने डाइट में जरूर शामिल करें.

budhaape mein svasth rahane ke lie 30 ke umr ke baad in cheejon ko apane dait mein jaroor shaamil karen

Enable Notifications    OK No thanks